गोल्ड कमोडिटी ट्रेडिंग टिप्स इन हिंदी

गोल्ड कमोडिटी ट्रेडिंग में एक सटीक टिप ट्रेडर के प्रॉफिट को सुनिश्चित कर सकती है. वहीं एक छोटी सी चूक निवेशक का बंटाधार करने के लिए काफी है. उतार-चढ़ाव से भरे कॉपर के कमोडिटी मार्केट में कुशलता और परिवक्वता की खासी जरूरत है. हमारी कंपनी Mcxbulliontips.in की गोल्ड के कमोडिटी मार्केट की ट्रेडिंग में महारत ही हमें दूसरों से अलग बनाती है. बाजार के आंकड़ों और आर्थिक सिद्धांतों के आधार के साथ ही, बाजार की नब्ज पर आधारित हमारी टिप ने हमारे कस्टमर को बहुधा लाभ की स्थिति में रखा है. तो आप भी जुड़िये हमारे साथ Mcxbulliontips.in पर क्योंकि हम देंगे आपको गोल्ड की ट्रेडिंग से जुड़ी परफेक्ट जानकारी-

गोल्ड कमोडिटी ट्रेडिंग टिप्स

START YOUR FREE TIPS

 

 

 

Trial Tips For
CommodityStock FuturesStock Cash

हमसे मिलने वाले गोल्ड कमोडिटी ट्रेडिंग के 5 फायदे-

  1. एक्युरेट टिप– गोल्ड की कमोडिटी ट्रेडिंग के लिए बतौर कस्टमर हमसे जुड़ने पर हम आपको देंगे सटीक और बेहतर टिप. 80 फीसदी तक की एक्युरेसी वाली टिप में सुरक्षित रहेगा निवेश. साथ ही समय पर क्रय-विक्रय के लिए हम उपलब्ध कराएंगे हर वो आधारभूत छोटी-बड़ी जानकारी जो आपको फैसला लेने में बने मददगार. टेक्निकल और फंडामेंटल आधारित हमारी टिप्स में हानि की है आशिंक संभावना और लाभ के अवसर हैं अपार-
  2. फंडामेंटल एक्सपर्ट्स– कमोडिटी के वर्चुअल मार्केट में गोल्ड के उत्पादन, उपयोग से लेकर कई ऐसे कारक हैं जिनसे गोल्ड की कीमत पर असर पड़ता है. इन सभी एलीमेंट्स पर Mcxbulliontips.in के एक्सपर्ट्स की विशेषज्ञता से गोल्ड से जुड़ी ट्रेडिंग टिप्स को मिलता है बेहतर आधार. साथ ही फंडामेंटल बेस्ड टिप से हम अपने कस्मटर को निवेश के खतरों और अवसरों के बारे में जरूरी टिप्स मुहैया करा रहे हैं. देखा जाए तो रोजाना ट्रेडिंग से जुड़ा इकोनॉमिक डाटा जमा होता है. जॉब डाटा, क्रूड ऑयल और नैचुरल गैस इन्वेंट्रीज़ से भी बाजार प्रभावित होता है. इनके कारण बाजार में आने वाली उछाल और गिरावट पर हमारे टेक्निकल और फंडामेंटल एक्सपर्ट्स की राय पर हमें मिलती है 80 से 90% की एक्युरेसी.
  3. टेक्निकल एक्सपर्ट्स– हमारे टेक्निकल एक्सपर्ट्स प्रोफेशनल सॉफ्टवेयर के जरिए लाइव प्राइज़ परफॉर्मेंस के साथ ही चार्ट पैटर्न और ग्राफिक्स की मदद से टिप्स तैयार करते हैं। इन सॉफ्टवेयर्स से पुरानी कीमत के साथ लाइव प्राइज का विश्लेषण करके फ्यूचर प्राइज़ (भविष्य की कीमत) का अनुमान लगाया जाता है, जिसमें हानि की संभावना कम होती है। Mcxbulliontips.in पर हमारे अनुभवी चीफ एनलिस्ट के मार्ग दर्शन में हमारी परफेक्ट टीम प्रीसियस मेटल गोल्ड की ट्रेडिंग में अवसरों का पता लगाती है. कमोडिटी ट्रेडिंग में पूरा खेल आंकड़ों का है. राष्ट्रीय एक्सचेंज के साथ ही अंतर राष्ट्रीय एक्सचेंज के आंकड़ों में आपसी तालमेल से हम समझने में मदद करते हैं बाजार का रुख. एक्सचेंज और ट्रेडिंग कारोबार से जुड़े मानक संगठनों की गाइड लाइन, आंकड़ों, चार्ट, और रिपोर्ट्स के आधार पर गोल्ड ट्रेडिंग के नफे-नुकसान का अंदाजा लगाने में हमारे एक्सपर्ट्स की दक्षता से हम आपको देते हैं लाभदायी टिप्स.
  4. लंबा अनुभव– बीते सात साल से Mcxbulliontips.in पर जुड़े कस्टमर्स को कमोडिटी ट्रेडिंग की एक्युरेट टिप्स दी जा रहीं हैं. Mcxbulliontips.in से जुड़ने वाले सदस्यों की संतुष्टि ही हमारी सफलता की निशानी है. हमने ना केवल अपने कस्टमर्स को गोल्ड की ट्रेडिंग से जुड़े लाभ की संभावना की समय पर परफेक्ट गोल्डन जानकारी दी, बल्कि समय रहते गोल्ड में निवेश के खतरों का एक्युरेट अलर्ट भी दिया.
    निवेश की रणनीति
  5. फंडामेंटल एनालिसिस– निवेशक निवेश के दौरान व्यापक आर्थिक परिस्थिति का विश्लेषण करते हैं. इस विश्लेषण में अंतर राष्ट्रीय इकोनॉमिक इंडिकेटर्स जैसे- जीडीपी ग्रोथ रेट, मुद्रा स्फीति, ब्याज दर, उत्पादकता के साथ ही एनर्जी मूल्य समाहित रहते हैं. निवेशक गोल्ड की सालाना मांग और आपूर्ति के आंकड़ों और स्थितियों का भी विश्लेषण करते हैं. इस विश्लेषण को फंडामेंटल एनालिसिस में शामिल किया जा सकता है.

गोल्ड बनाम स्टॉक्स

  • सोने में ट्रेड कैसे करें– विश्व के राजनीतिक और आर्थिक जगत में खास स्थान और उच्च तरलता के कारण सोने के बाजार में लाभ कमाने की असीम संभावनाएं हैं. कब कहां और किस मार्केट में गोल्ड से अवसर है लाभ कमाने का इस बात पर रहती है हमारी पकड़.
  • सोने पर पूरा लाभ– मार्केट पार्टिसिपेंट्स भी सोने से मिलने वाले पूरे लाभ को कमाने में नाकामयाब रहे हैं. सोने के विश्व व्यापी मार्केट के अहम कारकों, या फिर सोने से मिलने वाले लाभ को प्रभावित करने वाले ऑब्जेक्ट्स की जानकारी न होने के कारण बहुधा निवेशक गोल्ड से मिलने वाला पूरा लाभ अर्जित करने से वंचित रह जाते हैं. यहां एक बात खास है सभी इन्वेस्टमेंट व्हीकल्स एक समान विभाजित नहीं होते. इसलिए इनके चुनाव में सावधानी बरतना अनिवार्य है. हमारे एक्सपर्ट्स को इन व्हीकल्स की है पूरी जानकारी है और वो बता सकते हैं आपको कि कब लाभ का पहिया घूमने वाला है.

इन्वेस्ट का बदलता ट्रेंड

गोल्ड में इन्वेस्ट करने के लिए पुराने दिनों में सोने को खरीदना और उसे स्टोर करने का चलन था. ऐसे में ज्यादा विनियोग करने में स्टोर करने में खतरा रहता था. लेकिन आज दुनिया भर में फ्यूचर्स के जरिए निवेश का चलन बढ़ गया है. इसके जरिए कभी भी-कहीं भी इन्वेस्टर चाहे तो निवेश कर सकता है. फ्यूचर्स के जरिए आप चाही गई कीमती धातु में बगैर उसका स्वामी बने इन्वेस्ट कर सकते हैं. इसकी ट्रेडिंग के दौरान आप ‘कॉन्ट्रेक्ट्स’ खरीदते हैं. गोल्ड कॉन्ट्रेक्ट्स में ट्रेड करने पर एक कॉन्ट्रेक्ट की कीमत एक किलो सोने के मूल्य जितनी होती है. गोल्ड में निवेश से लाभ हासिल करने जुड़ें हमसे http://blog.Mcxbulliontips.in/ पर.

इनसे है खास नाता-

  • रीक्लेम्ड स्क्रैप और अधिकृत गोल्ड लोन्स
  • उत्पादक/ माइनर हेजिंग इंटरेस्ट
  • वर्ल्ड मैक्रो इकोनॉमिक फैक्टर- अमेरिकी डॉलर, ब्याज दर
  • स्टॉक मार्केट से तुलनात्मक रिटर्न
  • मानसून और कृषि उत्पादन आधारित घरेलु मांग
  • भारत में मांग और आपूर्ति का तरीका

मूल्य निर्धारक- गोल्ड की कीमतें कई चीजों से प्रभावित हो सकती हैं, मूल रूप से-

  • यूएस डॉलर की ताकत
  • ऑयल कीमतें
  • सहायक मांग
  • निकास की लागत
  • अप्रत्याशित घटनाएं (जैसे- श्रमिक हड़ताल, भूकंप, भौगोलिक-राजनैतिक असंतुलन)

गोल्ड की ट्रेडिंग के मुख्य केंद्र

  1. लंदन (क्लियरिंग हाउस)
  2. न्यूयॉर्क (होम ऑफ फ्यूचर्स ट्रेडिंग)
  3. ज्यूरिख (फिजिकल टर्नटेबल)
  4. इस्तांबुल, दुबई, सिंगापुर और हांगकॉन्ग (मुख्य खपत क्षेत्र के लिए द्वार)
  5. टोक्यो
  6. मुंबई

इन एक्सचेंज में गोल्डन चांस

हांगकॉन्ग, ज्यूरिख, लंदन और न्यूयॉर्क मार्केट में गोल्ड की 24 घंटे ट्रेडिंग होती है. भारत में मुंबई और अहमदाबाद में सोने की ट्रेडिंग होती है. भारत की तीन प्रमुख कमोडिटी एक्सचेंज्स में भी इसकी ट्रेडिंग होती है. नेशनल कमोडिटी&डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लि.(NCDEX), मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) और नेशनल मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया में गोल्ड ट्रेड होता है. विविध कमोडिटी एक्सचेंज्स में गोल्ड के फ्यूचर कॉन्ट्रेक्ट स्पेसिफिकेशन की ट्रेडिंग होती है.

विश्व के प्रमुख केंद्र

  • दुनिया में तीन ट्रेडिंग सेंटर्स को गोल्ड ट्रेडिंग का हब माना जाता है.
  • लंदन OTC मार्केट
  • US फ्यूचर्स मार्केट
  • शंघाई गोल्ड एक्सचेंज (SGE).

इन मार्केट्स में दुनिया में होने वाली सोने की कुल ट्रेडिंग में से 90 फीसदी की ट्रेडिंग होती है. साथ ही छोटे सेंकेंडरी मार्केट सेंटर्स (OTC और एक्सचेंज ट्रेडेड) भी इन मेजर सेंटर्स से जुड़े हैं.

  • लंदन OTC मार्केट– सोने की ट्रेडिंग करने के लिए लंदन OTC मार्केट का इतिहास काफी पुराना है. आज दुनिया की लगभग 70 फीसद गोल्ड ट्रेडिंग यहां हो रही है. इस मार्केट से दिन में दो बार विश्व संदर्भ में सोने के बेंचमामर्क्स जारी किए जाते हैं. जिसे LBMA गोल्ड प्राइज के तौर पर जाना जाता है. लंदन मार्केट को टाइम जोन का भी एडवांटेज मिलता है. एशियाई और यूएस ट्रेडिंग घंटों के लाभ के कारण भी ये सबसे ज्यादा प्रचलित प्लेटफार्म है.
  • यूएस फ्यूचर्स मार्केट (COMEX)– लंदन मार्केट जहां फिजिकल मार्केट में लीड रोल निभा रहा है, वहीं CME ग्रुप द्वारा संचालित कॉमेक्स डेरिवेटिव्स एक्सचेंज भी खासा उपयोगी है. कॉमेक्स में ट्रेडिंग प्राथमिक रूप से ‘चालू माह’ (नजदीकी तारीख) के आधार पर होती है. यहां कॉन्ट्रेक्ट्स स्पॉट प्राइज़ के लिए प्रॉक्सी के तौर पर उपयोग किया जाता है. कॉमेक्स शिकागो मर्केंन्टाइल एक्सचेंज का सदस्य है। कॉमेक्स को मेटल्स के मामले में बड़े स्तर पर दक्षता हासिल है. इस एक्सचेंज में कीमतें ट्रेडिंग अवधि के दौरान निरंतर अपडेट होती हैं. मार्केट ट्रेडिंग से जुड़े आंकड़े भी समय-समय पर जारी करता है, जिससे ट्रेडर्स को ट्रेडिंग की प्लानिंग बनाने में काफी आसानी मिलती है.
  • मल्टी-कमोडिटी एक्सचेंज (MCX)– इस एक्सचेंज से इन्वेस्टर्स को स्टेंडर्ड और मिनि फ्यूचर्स कॉन्ट्रेक्ट्स की ट्रेडिंग का मौका मिलता है. भारतीय कारोबार आधारित इस एक्सचेंज में 1KG और 100ग्राम के मिनि फॉर्मेट में ट्रेड होता है.
  • चाइनीज मार्केट (SGE & SHFE)– शंघाई गोल्ड एक्सचेंज को दुनिया में सोने के फिजिकल स्पॉट एक्सचेंज के तौर पर शुमार किया जाता है.
  • सेकेंडरी मार्केट सेंटर्स– दुबई, भारत, जापान, रिंगापुर और हांगकॉन्ग को गोल्ड का बड़ा बाजार माना जाता है. यहां सभी मार्केट से एक्सचेंज किया जा रहा है. इन देशों में गोल्ड की स्पॉट ट्रेडिंग के साथ ही लिस्टेड कॉन्ट्रेक्ट्स की सुविधा प्रदान की जा रही है.

ध्यान रखेंकिसी भी निवेश में रिस्क होती है, साथ ही लाभ की भी गारंटी नहीं. ऐसे में गोल्ड कमोडिटी में ट्रेडिंग से पहले गोल्ड मार्केट के सहयोगी कारकों के साथ ही उसके कंज्यूमर्स की पड़ताल कर लें. साथ ही बाजार की चाल पर नजर रखना भी उतना ही जरूरी है. गोल्ड मार्केट को नियंत्रित करने वाले कारकों पर रखी गई पैनी नजर से इन्वेस्टर खुद को बेहतर पोजिशन में बरकरार रख सकता है. अनुभवी ट्रेडर्स की राय भी लाभ की गारंटी में कारगर भूमिका अदा कर सकती है.

हम कर सकते हैं आपकी मदद

लंबे समय से अपने कस्टमर्स को लो रिस्क ट्रेडिंग के टिप्स दे रही हमारी कंपनी Mcxbulliontips.in आपको बेहतर विकल्प सुझा सकती है। बेस मेटल ट्रेडिंग के बारे में हमारी कंपनी के टेक्निकल और फंडामेंटल एनलिस्ट्स के पास है मार्केट से जुड़े हर छोटे-बड़े बदलावों की पूरी जानकारी. अपने अनुभव से हम कर सकते हैं इन्वेस्टमेंट में आपकी रिस्क को बहुत कम. तो जुड़ें हमसे Mcxbulliontips.in पर और पाएं मिनिमम रिस्क पर मैक्सिमम प्रॉफिट.

error: Content is protected !!